May 25, 2024

दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने लेखिका और सामाजिक कार्यकर्ता अरुंधति रॉय और कश्मीर केंद्रीय विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर शेख शौकत हुसैन के खिलाफ कश्मीर को लेकर विवादित टिप्पणी करने के आरोप में साल 2010 में दर्ज एफआईआर में मुकदमा चलाने की आज मंजूरी दे दी। मामले में दो अन्य आरोपी सैयद अली शाह गिलानी और दिल्ली विश्वविद्यालय के व्याख्याता सैयद अब्दुल रहमान गिलानी की मामले की सुनवाई के दौरान मृत्यु हो गई थी।

उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने कहा कि अरुंधति रॉय और कश्मीर केंद्रीय विश्वविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय कानून के पूर्व प्रोफेसर डॉ. हुसैन के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी में एक सार्वजनिक समारोह में उनके भाषणों के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 153ए, 153बी और 505 के तहत अपराध करने का प्रथम दृष्टया मामला बनता है।

मामले में आईपीसी की धारा 124ए (देशद्रोह) के तहत मंजूरी नहीं दी गई है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने एक अन्य मामले में निर्देश दिया है कि राजद्रोह मामले पर संविधान पीठ का फैसला आने तक आईपीसी की धारा 124ए (देशद्रोह) के तहत तय किए गए आरोप के संबंध में सभी लंबित मुकदमे, अपील और कार्यवाही को स्थगित रखा जाएगा। दिल्ली पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के मद्देनजर कहा कि आईपीसी की धारा 124ए के तहत अपराध के लिए अभियोजन मंजूरी देने के अनुरोध पर फिलहाल फैसला नहीं लिया जा सका है।

कश्मीर के एक सामाजिक कार्यकर्ता सुशील पंडित ने 28 अक्टूबर, 2010 को ‘राजनीतिक कैदियों की रिहाई के लिए समिति’ (सीआरपीपी) के बैनर तले 21 अक्टूबर 2010 को “आज़ादी -एकमात्र रास्ता” विषय पर आयोजित एक सम्मेलन में सार्वजनिक रूप से भड़काऊ भाषण देने के लिए कार्यक्रम में शामिल विभिन्न व्यक्तियों और वक्ताओं के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया था कि जिस मुद्दे पर चर्चा और प्रचार किया गया वह “भारत से कश्मीर को अलग करना” था। यह भी आरोप लगाया गया कि भाषण उत्तेजक प्रकृति के थे, जिससे सार्वजनिक शांति और सुरक्षा खतरे में पड़ गई। इसके बाद शिकायतकर्ता ने मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट, दिल्ली की अदालत के समक्ष सीआरपीसी की धारा 156(3) के तहत शिकायत दर्ज कराई।

मामले में मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के 27 नवंबर, 2010 के आदेश के माध्यम से राजद्रोह, धर्म, जाति, जन्म स्थान, निवास, भाषा के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने आदि राष्ट्रीय-एकीकरण पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले आरोपों, दावों के साथ के अपराध के लिए 29 नवंबर, 2010 को एफआईआरदर्ज की गई थी। उन पर सार्वजनिक शरारत के उद्देश्य से कृत्य करने का भी आरोप लगाया गया। गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए), 1967 की धारा 13 के तहत भी मामला दर्ज किया गया था।

यह आरोप लगाया गया है कि सैयद अली शाह गिलानी और अरुंधति रॉय ने दृढ़ता से प्रचारित किया कि “कश्मीर कभी भी भारत का हिस्सा नहीं था और उस पर भारत के सशस्त्र बलों ने जबरन कब्जा कर लिया था और जम्मू-कश्मीर राज्य की भारत से आजादी के लिए हर संभव प्रयास किया जाना चाहिए।”

मामले में दिल्ली पुलिस ने अरुंधति रॉय और शौकत हुसैन के खिलाफ आईपीसी की धारा 153ए, 153बी, 504, 505 और गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए), 1967 की धारा 13 के तहत अपराध के लिए सीआरपीसी की धारा 196 के तहत अभियोजन स्वीकृति मांगी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *