May 25, 2024

सीनियर वकील और राज्यसभा सांसद कपिल सिब्बल ने हाल ही में अनुभवी पत्रकार निधि राजदान को दिए इंटरव्यू में कहा कि धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) का इस्तेमाल सरकार द्वारा उत्पीड़न के साधन के रूप में किया जा रहा है। उन्होंने कहा, “पीएमएलए उत्पीड़न का एक साधन है। यह इतना सरल है। यह उपकरण है, जिसके द्वारा आप लोगों को आतंकित करते हैं।” जब राजदान ने बताया कि धन शोधन निवारण अधिनियम, 2002 को कांग्रेस शासन के दौरान लागू किया गया था जब वह पार्टी का हिस्सा थे, सिब्बल ने जवाब दिया कि कानूनों का दुरुपयोग करने के इरादे से नहीं लाया गया था।

उन्होंने कहा, “हो सकता है कि हम पीएमएलए लाए हों लेकिन हमें कभी नहीं पता था कि पीएमएलए का इस्तेमाल इस तरह से किया जा सकता है और हमने कभी भी इसका इस्तेमाल उस तरह से नहीं किया। सभी कानून ठीक हैं, केवल कानूनों के दुरुपयोग के कारण ऐसा होता है।” उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि विपक्षी नेताओं को निशाना बनाने के लिए सरकार द्वारा पीएमएलए का लगातार दुरुपयोग किया जा रहा है। उन्होंने कहा, “कानून उसका प्रतिनिधित्व नहीं करते, जिसे हम न्याय कहते हैं।

न्याय न्यायालय प्रणाली के माध्यम से मिलता है। कानूनों का दुरुपयोग विनाश करने, हिसाब बराबर करने, मैसेज भेजने के लिए किया जाता है। आप जानते हैं कि पीएमएलए का इस्तेमाल विपक्षी नेताओं के खिलाफ किया जा रहा है। न्याय तभी मिलता है जब अदालत खड़ी होती है और कहती है कि आप ऐसा नहीं कर सकते। ये सब अब चुनाव के समय हो रहा है। छत्तीसगढ़ में, झारखंड में, राजस्थान में, पश्चिम बंगाल में, तेलंगाना में, उड़ीसा में, आप इसका नाम लीजिए। हर राज्य जहां विपक्ष है, आपको एक ही तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।” 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *